राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तत्वावधान में ’वर्ल्ड ओरल हेल्थ डे’ के मौके पर जिला चिकित्सालय रूद्रप्रयाग में आयोजित कार्यक्रम में राजकीय महाविद्यालय रूद्रप्रयाग के 74 रासेयो छात्र-छात्राओं के मुख स्वास्थ्य की जांच की गई।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. एचसीएस मर्तोलिया के निर्देशन में ’ओरल हेल्थ डे’ का आयोजन कर महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को दांतो और मुंह की देखभाल के प्रति जागरूक किया गया। इस अवसर पर डेंटल सर्जन डा. नितिन पुरोहित ने कहा कि स्वस्थ मुंह सेहत का आधार है, लिहाजा मुंह की स्वच्छता के प्रति विशेष सावधान बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दांतों को मजबूत बनाए रखने के लिए दिन में दो बार और हर बार दो मिनट तक ब्रश करना जरूरी है। कहा कि कुछ भी खांए तो पानी का कुल्ला जरूर करें। उन्होंने कहा कि मुंह के स्वास्थ्य की जन्म से ही शुरूआत करनी चाहिए, शिशुओं को रात को दूध पिलाने या खिलाने के बाद उनके मुहं की सफाई करनी चाहिए, ध्यान दें कि बच्चे खाने में चिपचिपे व मीठे पदार्थों का कम उपयोग करें। कहा कि खाने का छोटा सा टुकड़ा यदि दांत में फंस गया तो उसमें कीड़ा लगने में देर नहीं लगती। उन्होंने सांस में बदबू, मसूड़ों में सूजन एवं खून आना तथा दांतों में सडन होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में दंत चिकित्सक से संपर्क करने की अपील की।
इस मौके पर 74 छात्र-छात्राओं की डेंटल सर्जन डा. नितिन पुरोहित द्वारा ओरल हेल्थ व नेत्र सहायक राजेश पुरोहित ने नेत्रों की जांच की। इस अवसर पर प्रोफेसर श्रीकांत नौटियाल, एनटीसीपी सोशल वर्कर दिगपाल कंडारी, डेंटर हाइजिनिस्ट अनूप रावत आदि मौजूद रहे।