अपर जिलाधिकारी/उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्याम सिंह राणा ने अवगत कराया है कि लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 की आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है तथा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने आम जनमानस से अपेक्षा की है कि सभी नियमों का पालन करें। उन्होंने अवगत कराया है कि धारा-171 (बी) आईपीसी के अंतर्गत जो कोई किसी भी व्यक्ति को इस उद्देश्य से पारितोषण देता है कि वह उस व्यक्ति को या किसी अन्य व्यक्ति को निर्वाचन अधिकार का प्रयोग करने के लिए उप्रेरित करें या स्वयं अपने लिए या किसी अन्य व्यक्ति के लिए पारितोषण ऐसे किसी अधिकार को प्रयोग में लाने के लिए उप्रेरित करने का प्रयंत्न करने लिए ईनाम के रूप में प्रतिग्रिहित करता है, तो वह रिश्वत की श्रेणी में आता है। ऐसे अपराध के लिए दोनों में से किसी भांति के कारावास जिसकी अवधि एक वर्ष तक हो सकेगी या जुर्माने से या दोनों से दंडित किया जाएगा।
उक्त आशय की जानकारी देते हुए उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिला मजिस्ट्रेट श्याम सिंह राणा ने अवगत कराया है कि धारा-171(ब) आईपीसी के अंतर्गत जो कोई व्यक्ति किसी निर्वाचन अधिकार के निर्वाध प्रयोग में जानबूझकर हस्तक्षेप करता है या हस्तक्षेप करने का प्रयत्न करता है, तो वह निर्वाचन में असम्यक असर डालने का अपराध करता है। ऐसे अपराध के लिए वह दोनों में से किसी भांति के कारावास जिसकी अवधि एक वर्ष तक हो सकेगी या जुर्माने अथवा दोनों से दंडित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि निर्वाचन व्यय परीक्षण व आदर्श आचार संहिता के परिपालन हेतु विधानसभावार कुल 08 उड़नदस्ता दल, 06 स्थैनिक निगरानी टीम (जो अधिसूचना की तिथि से कार्य करेगी।) 04 निगरानी टीम का गठन किया गया है, जिसमें एक प्रभारी अधिकारी तथा एक पुलिस अधिकारी सहित टीम का गठन किया गया है, जो आवंटित क्षेत्रों में किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर अथवा आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन की शिकायत पर तत्काल संबंधित स्थल पर जाएगी तथा कार्यकारी मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में शिकायत की जांच तथा वीडियोग्राफी कर आवश्यक साक्ष्य संकलन करते हुए विधिक कार्यवाही करेगी तथा की गई कार्यवाही की रिपोर्ट संबंधित सहायक रिटर्निंग अधिकारी को आॅनलाइन भेजेगी तथा संबंधित सहायक रिटर्निंग अधिकारी द्वारा की गई कार्यवाही पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि उड़नदस्ता टीम की ट्रेकिंग जीपीएस मोबाइल एप के माध्यम से नियंत्रण कक्ष से निगरानी की जाएगी। यह टीम चरणबद्ध तरीके से 24ग4 कार्य करेगी।