मुख्य विकास अधिकारी नंदन कुमार द्वारा आज विकास भवन सभागार में जनपद के विभिन्न विभागों की जिला योजना,राज्य सेक्टर, केंद्र पोषित तथा वाह्य सहायतित योजनाओ की समीक्षा की गई।

समीक्षा के दौरान अपर जिला अर्थ एवम संख्या अधिकारी गणेश चंद्र ने मुख्य विकास अधिकारी को अवगत कराते हुए कहा कि जनपद के विभिन्न विभागों द्वारा अतिथि तक जिला योजना अंतर्गत कुल रुपया 6644.48 लाख की अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष 4833.97 लाख की धनराशि लगभग 72% विभिन्न विकास कार्यों में ब्यय कर ली गई है, इसी प्रकार राज्य योजना में रू–34236.42लाख की अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष रु –22739.19 लाख की धनराशि लगभग 66.42 प्रतिशत की धनराशि व्यय कर ली है व केंद्र पोषित योजना अंतर्गत रू–39036.00 लाख की अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष रु–38390.13 लाख की धनराशि लगभग 98.35 प्रतिशत व्यय कर ली गई है एवम वाह्य सहायतित योजना अंतर्गत रू –1207.66 लाख की अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष रू 1191.51 लाख की धनराशि व्यय कर ली गई है l इस प्रकार शासन से कुल अवमुक्त धनराशि रु–81124.56 लाख रुपए के सापेक्ष कुल रु–67154.80 लाख रुपए की धनराशि लगभग 82.78 प्रतिशत धनराशि व्यय कर ली गई है।

समीक्षा बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने विभिन्न विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला योजना अंतर्गत जो भी धनराशि अवशेष रह गई है समय अंतर्गत धनराशि को शतप्रतिशत व्यय कर लिया जाए इस हेतु समस्त अधिकारी कार्यों में तेजी लाते हुए धनराशि को व्यय करना सुनिश्चित करें। मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिए कि बीस सूत्रीय योजना में जो विभाग ग्रेड डी ,ग्रेड सी में है कार्यों में तेजी लाते हुए ग्रेड ए में आने हेतु आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें।
समीक्षा के दौरान जनपद के विभिन्न विभागों के अधिकारियों द्वारा अपने-अपने विभाग से संचालित योजनाओं की जानकारी भी मुख्य विकास अधिकारी को दी गई इसके अतिरिक्त पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से भी विस्तार पूर्वक जिला योजना की जानकारी मुख्य विकास अधिकारी के सम्मुख रखी गई। इसके अतिरिक्त अधिसाशी अभियंता लो नि वि अस्कोट के बैठक में उपस्थित न होने पर अपनी गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए स्पष्टीकरण करने के निर्देश पर दिए।

समीक्षा बैठक में एसडीओ ज्वाला प्रसाद,जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, अधिसाषी अभियंता जल संस्थान सुरेश जोशी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी कर्मचारी आदि उपस्थित थे।