जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने अवगत कराया है कि आपदा प्रबंधन के लिए त्वरित राहत एवं बचाव व खोजबीन कार्य करने एवं आपदा प्रबंधन को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी के निर्देशन में जनपद के विभिन्न विद्यालयों में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इस श्रृंखला में विकासखंड जखोली के राजकीय इंटर कॉलेज पांजणा में दो दिवसीय आपदा आपदा प्रबंधन संबंधी त्वरित खोज एवं बचाव, प्राथमिक उपचार प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद आपदा प्रबंधन प्राधिकरण रुद्रप्रयाग के तत्वाधान में मास्टर ट्रेनर सीमा परमार खोज एवं बचाव डीडीएमए के नेतृत्व में डीडीआरएफ के सहयोग से प्रशिक्षण संपन्न किया गया। प्रशिक्षण में विद्यालय के 103 छात्र-छात्राओं द्वारा प्रशिक्षण प्रयोगात्मक रूप से सफलतापूर्वक पूर्ण किया।
प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों को प्राकृतिक एवं मानवजनित आपदा एवं आपदा प्रबंधन की जानकारियां दी गई, जैसे-आपदा से पूर्व-दौरान-पश्चात् के कार्यों के बारे में, साथ ही खोज-बचाव में प्रयोग होने वाले उपकरणों की प्रयोगात्मक जानकारी, आपातकालीन स्ट्रेचर बनाना, प्राथमिक उपचार की जानकारी के साथ जनपद आपातकालीन परिचालन केंद्र के नंबर की जानकारी और विद्यालय परिसर के सुरक्षित स्थान एवं निकासी मार्गो की भी जानकारी दी गई। इस दौरान राजकीय इंटर काॅलेज पांजणा के शिक्षकों सहित छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।
जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी ने यह भी अवगत कराया है कि विकास खंड जखोली के राजकीय इंटर काॅलेज बांगर में 9 को तथा 12 एवं 13 को राजकीय इंटर काॅलेज सिद्धसौड़ में तथा विकास खंड जखोली के राजकीय इंटर काॅलेज क्यूंजा में 15 फरवरी को तथा 16 एवं 17 फरवरी को राजकीय इंटर काॅलेज राउंलेक तथा 19 एवं 20 फरवरी को राजकीय इंटर काॅलेज ऊखीमठ में छात्र-छात्राओं को आपदा प्रबंधन के संबंध में प्रशिक्षण दिया जाएगा।