तीन मार्च को प्रत्येक पोलियो बूथ पर जनपद के 0-5 के बच्चों को पोलियो खुराक पिलाने का कार्यक्रम रखा गया है इसके अलाव 4 और 5 मार्च को घर-घर जाकर पोलियो खुराक पिलाई जाएगी

शून्य से पांच साल तक की आयु के बच्चों को दो बूंद जिंदगी की दवा या पोलियो से बचाव की दवा
पिलाने का तीन दिवसीय अभियान 3 माच 2024 से शुरू हो रहा है। इसी क्रम में अभियान की तैयारियों को लेकर जिलाधिकारी रीना जोशी की अध्यक्षता में बृहस्पतिवार को जिला सभागार में राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान हेतु जिला समन्वयक / जिला मीडिया समिति एवं जिला टास्क फोर्स समिति की बैठक आयोजित हुई।

बैठक में जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिया
कि कोई भी बच्चा पोलियो की दवा से वंचित न रह पाए। **डीएम ने कहा कि जिले के जो हाई रिस्क एरिया हैं उन स्थानो पर ज्यादा फोकस करें।* आवश्यकता पड़ने पर स्थानीय जन पतिनिधियो का भी सहयोग ले, कार्यक्रम को गंभीरता से लेते हुए अभियान को सफल बनाने के निर्देश दिए, वह संबंधित अधिकारियों को राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिए अपने-अपने स्तर से प्रचार प्रसार करने के भी निर्देश दिए ताकि जनपद में शत-प्रतिशत बच्चो को पोलियो खुराक पिलाई जा सके।

बैठक मे जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ मदन बोनाल ने जिलाधिकारी को प्रेजेंटेशन के माध्यम से बताया कि इस अभियान के तहत शून्य से पांच साल के 37255 बच्चों को पोलियो से बचाव की दवा पिलाने का लक्ष्य है जिसके लिए ब्लाक / नगरीय क्षेत्र कुल बूथों की संख्या 632 जिसमें बिण बूथ 67, मूनाकोट 53,कनालीछीना 67,डीडीहाट 76,धारचूला 83,मुनस्यारी 84,बेरीनाग 83,गंगोलीहाट 101,नगरीय क्षेत्र पिथौरागढ़ 18 बनाए गए इसके अलाव 13 सचल बूथ बनाएगए जिनमे ईग्यारदेवी – एक, बडालू – एक, कनालीछीना – दो, बेरीनाग – दो, गंगोलीहाट,मुनस्यारी – एक, नगरीय क्षेत्र पिथौरागढ़ एक,साथ ही पांच ट्रांजिट बूथ ईग्यारदेवी – घाट पुल, बडालू – कटियानी मनकोट, गंगोलीहाट – देवराडी बोरा गणाई बाजार, धारचूला – जौलजीबी गोरीपुल, जौलजीबी बाजार मे बनाए गए जो गाडियो एवं राहगीर 0-5 वर्ष के बच्चों पर नजर रखते हुए पोलियो ड्रॉप पिलाई जाएगी। दस वनराजी ग्राम चिफलतड़ा,गाड़ा गाँव,किमखोला,भक्तिरवा,कुलेख औलतडी,कंतोली,मदनपुरी,चौरानी,कूटा मे एक-एक बूथ बनाए गए है जहां पर 84 बच्चों को पोलियो ड्राप पिलाई जाएगी। वही कोई बच्चा पोलियो ड्रॉप से वंचित न रहे, हार्ड टू रीच ग्राम धारचूला एवं मुनस्यारी गुंजी, नपल्ब्यू, गर्व्यांग, सेला, नागलिंग, चल,बालिंग, दुग्तू, दातू, बोन, फिलम, ढाकर गो,
तिदांग, मार्छा सीपूलीलम, बोग्ड्यार, लास्पा, रिलकोट, मार्तोली,बूर्फ बिल्जू, मिलम एक-एक बूथ बनाए गए है। शुरुआती बर्फ पड़ने वाले क्षेत्र मुनस्यारी नामिक, बोना मे दो बूथ बनाए गए, अभियान को सफल बनाने हेतु मैनपावर के लिए 14 विभागीय वाहन,14 वैक्सीन वितरण केन्द्र के साथ ही 2788 कर्मचारियों की तैनाती की गई, जिसमें एएनएम,आशा, आशा फैसिलिटेटर, आंगनवाड़ी/ आंगनवाड़ी सहायिका, स्वास्थ्य के विभाग कर्मचारी,एनजीओ,सामाजिक कार्यकर्ता ,सेना के अलाव अर्धसैनिक सम्मिलित है। जिन्हें ब्लॉकवार 12 फरवरी से 16 फरवरी तक विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 3 मार्च को प्रत्येक बूथ पर 0-5 के बच्चों को पोलियो खुराक पिलाने का कार्यक्रम किया रखा गया है इसके अलावा 4 और 5 को ढोर टू ढोर घर-घर जाकर खुराक पिलाई जाएगी।
बैठक मे डॉ दिव्या नाथ,एस आई आईटीपीबीपी महेश जोशी,बीपीएम भूपेश जोशी,अनिल बिष्ट, वीसीसीएम पंकज बिष्ट, एसएसबी आदि संबंधित अधिकारी मौजूद थे।