हरिद्वार निवासी अहसान की लिखित शिकायत पर अज्ञात चोरों के खिलाफ कलियर क्षेत्रान्तर्गत पंजाब नेशनल बैंक के पास से ई-रिक्शा चोरी होने के संबंध में थाना कलियर में मु0अ0सं0 425/2023 धारा 379 आईपीसी दर्ज किया गया।

जनपद में दोपहिया वाहन, ई-रिक्शा एवं अन्य चोरियों के प्रति गंभीर एसएसपी प्रमेन्द्र डोबाल के दिशानिर्देश पर थाना कलियर में दर्ज वाहन चोरी के मुकदमों के जल्द खुलासे के लिए एक टीम का गठन किया गया। पड़ताल के दौरान मिले इनपुट के आधार पर गठित टीमों को पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के जनपद मेरठ रवाना किया गया। टीम द्वारा प्राप्त जानकारी एवं मुखबिर की सूचना पर कस्बा सरधना क्षेत्र कालन्द से प्रकरण में संदिग्ध बाबू को दबोचने में कामयाबी हासिल की गई। गिरोह के 02 अन्य सदस्य फरार मिले जिनकी गंभीरता से तलाश जारी है। संदिग्ध बाबू उपरोक्त से पूछताछ के आधार पर 03 ई-रिक्शा बरामद किए गए।

बरामद ई-रिक्शा का मिलान करने पर एक ई-रिक्शा थाना कलियर में पंजीकृत मुकदमें से सम्बन्धित निकला। अन्य दो ई-रिक्शा मुरादाबाद से चोरी होने की जानकारी मिली है। पूछताछ में पता चला कि अभियुक्त जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में अपने साथियों के साथ मिलकर पहले ई-रिक्शा बुक करते थे और फिर बुक वाहन के ड्राइवर को चाय बिस्किट में नशे की दवाई मिलाकर बेहोश कर ई-रिक्शा ले जाते थे।

उर्स मेले के दौरान कलियर आए संदिग्ध दर्ज मुकदमें में चोरी ई-रिक्शा को किराए पर लेकर रुड़की गए थे और बीच रास्ते में इन्होंने चालक को नशीला बिस्कुट खिलाकर उसे रोड किनारे गिरा दिया था और ई-रिक्शा को लेकर चले गए। विवेचक द्वारा अभियोग में धारा 411, 328 ipc व 41/102 Crpc की बढ़ोतरी की गई है। पकड़े गए संदिग्ध के मुरादाबाद, मेरठ, मुजफ्फरनगर आदि जनपद से भी चोरी व अन्य अपराधों में जेल जाने की प्रारंभिक जानकारी मिली है जिसके संबंध में जानकारी की जा रही है। अन्य फरार दो अभियुक्तों की सरगर्मी से तलाश जारी है।

ई-रिक्शा के सफल खुलासे पर स्थानीय जनता द्वारा कलियर पुलिस की सराहना की गई।