चमोली विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से रविवार को जनपद के दूरस्थ गांव घूनी रामणी के राइका चौनघाट में बहुउद्देशीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में विभिन्न विभागों ने स्टाल लगाकर 365 से अधिक ग्रामीणों को सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। साथ ही प्राधिकरण ने विधिक साक्षरता एवं जागरूकता के तहत पॉक्सो अधिनियम, महिला सुरक्षा, बाल अधिकार, नशा मुक्ति, साइबर अपराध सहित विभिन्न विधिक कानूनों की जानकारी दी।

राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज चौनघाट में आयोजित बहुउद्देशीय शिविर का शुभारंभ सिविल जज (सीडी) व विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सिमरनजीत कौर ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने ग्रामीणों को प्राधिकरण की जानकारी देते हुए कहा की विधिक साक्षरता शिविर आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य हर कमजोर वर्ग के व्यक्ति तक सरलता से न्याय पहुंचाना है और ‘न्याय चला निर्धन की ओर’ की सार्थकता को सिद्ध करना है। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण समाज के प्रत्येक व्यक्ति को न्याय दिलाने के लिए कार्य कर रहा है। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों को पॉक्सो अधिनियम और वरिष्ठ नागरिक अधिनियम की भी विस्तृत जानकारी दी। इसके बाद उन्होंने शिविर में लगाए गए विभिन्न विभागों के स्टालों का निरीक्षण भी किया।

शिविर में स्वास्थ्य विभाग की ओर से 180 ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दवा वितरित की गई। इस दौरान विभाग की ओर से 50 आभा और 50 आयुष्मान कार्ड निर्गत किए गए। होम्योपैथी विभाग ने 73, आयुर्वेद विभाग ने 76 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उपचार किया। पूर्ति विभाग की ओर से 25 ग्रामीणों को राशन कार्ड का सुधारीकरण किया। समाज कल्याण विभाग की ओर से 17 लोगों को विभिन्न योजनाओं में ऑनलाइन आवेदन की जानकारी दी गई। विधिक प्राधिकरण के स्टाल पर ग्रामीणों ने 200 से अधिक शिकायतें दर्ज की। कार्यक्रम के दौरान जीआईसी चौनघाट के छात्र छात्राओं, स्थानीय महिला मंगल दलों और गोपीनाथ कला मंच की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई।

इस मौके पर उप जिलाधिकारी राजकुमार पांडे, मुख्य शिक्षा अधिकारी कुलदीप गैरोला, ग्राम प्रधान घूनी लखपत सिंह नेगी, जिला बार संघ अध्यक्ष भरत सिंह रावत, अधिवक्ता समीर बहुगुणा, ज्ञानेंद्र खंतवाल, रैजा चौधरी, शंकर मनराल, सतीश चमोली, हरीश रावत, हेमलता भट्ट, अनिता नेगी आदि मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन सुखवीर रौतेला ने किया।