जिलाधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत शनिवार को टीबी फोरम की बैठक संपन्न हुई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग को सम्पूर्ण जनपद को क्षय रोग मुक्त बनाने हेतु कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए गए।

जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि जनपद चमोली के सभी 610 ग्राम पंचायतों में क्षय रोग की जांच कराने हेतु कार्ययोजना तैयार की जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर सर्वे और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के साथ सभी टीबी मरीजों को चिन्हित किया जाए। चिन्हित टीबी मरीजों का उपचार के साथ ही को निक्षय पोषण एवं निक्षय मित्र योजना से लाभान्वित किया जाए और पूरे जनपद को टीबी रोग से मुक्त बनाया जाए।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ उमा रावत ने अवगत कराया कि जनपद चमोली में 115 ग्राम पंचायतों को क्षय रोग मुक्त किया गया है। वर्तमान में जनपद चमोली में 301 टीबी मरीज चिन्हित है, जिनका उपचार किया जा रहा है। इस बीमारी को रोकने के लिए सरकार ने निक्षय पोषण योजना शुरू की है। जिसमें मरीजों को इलाज के दौरान प्रतिमाह 500 रुपये की मदद दी जाती है। वही निक्षय मित्र योजना के अंतर्गत जनपद में अभी तक 967 मरीजों को किट वितरित की गई है।

बैठक में एसीएमओ डॉ उमा रावत, जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉ एसके रतूडी, डीपीओ संदीप कुमार एवं समिति के अन्य सदस्य उपस्थित थे।