जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने मंगलवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में सड़क सुरक्षा समिति की बैठक ली। उन्होंने निर्देशित किया कि सुरक्षित यातायात एवं सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए सड़क सुरक्षा से जुड़े कार्यो को प्राथमिकता पर पूरा किया जाए।

जिलाधिकारी ने कहा कि सड़क दुर्घटना स्थल का संयुक्त निरीक्षण करते हुए दुर्घटना के कारणों को तत्काल दूर किया जाए। रोड़ सेफ्टी के अन्तर्गत चिन्हित ब्लैक स्पॉटों का सुधारीकरण, क्रैश बैरियर, पैराफीट व साइनेज लगाने के अवशेष कार्यो को शीघ्र पूरा किया जाए। जो कार्य पूर्ण हो गए है, उनकी फोटोग्राफ के साथ रिपोर्ट दें। सड़कों का संयुक्त सर्वे एवं लंबित कार्यो को आपसी तालमेल के साथ शीघ्र पूरा किया जाए। एकीकृत सड़क दुर्घटना डेटाबेस (आईआरएडी) में डेटा संकलन के लिए विभागों के नोडल अधिकारियों को पुनः प्रशिक्षण दिया जाए। एसडीएम, पुलिस एवं परिवहन विभाग अभियान चलाकर सड़क सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करें। ओवर स्पीड, ओवरलोडिंग और ड्रंक एंड ड्राइव की रोकथाम के लिए सघन जांच करते हुए चालान की कार्रवाई की जाए। इस दौरान जिलाधिकारी ने सड़क दुर्घटनाओं में घायल व्यक्तियों के बारे में जानकारी लेते हुए घायलों के उपचार हेतु समुचित व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

बैठक में बताया गया कि दिसंबर माह में 06 सड़क दुर्घटनाएं हुई है। पुलिस और परिवहन विभाग द्वारा माह दिसंबर में ओवर स्पीड के 20, माल वाहन में यात्री ढोने पर 02, मोबाइल पर बात करने में 04, शराब पीकर वाहन चलाने पर 11, बिना हेलमेट के 89, बिना सीट बेल्ट के 45, बिना डीएल के 114 तथा वाहन का परमिट, फिटनेश, प्रदूषण मामलों में 74 सहित कुल 275 चालान किए गए है।

बैठक में अपर जिलाधिकारी डॉ अभिषेक त्रिपाठी, लोनिवि के अधीक्षण अभियंता राजेश चन्द्र, सीओ पुलिस नताशा सिंह, एसीएमओ डा.वीके सिंह, आरआई विक्रम कुमार, नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी सहित वर्चुअल माध्यम से सभी एसडीएम लोनिवि, बीआरओ एवं अन्य सड़क निर्माणदायी विभागों के अधिकारी वर्चुअल माध्यम से उपस्थित थे।