जनपद में आपदा प्रभावित परिवारों के विस्थापन एवं पुर्नवास को लेकर मंगलवार को जिलाधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में जिला स्तरीय पुर्नवास समिति की बैठक हुई। जिसमें जनपद के पांच आपदा प्रभावित गांवों के 48 परिवारों के विस्थापन एवं पुर्नवास हेतु द्वितीय किस्त के रूप में 1.08 करोड़ धनराशि और पैनगढ़ गांव के 31 परिवारों के विस्थापन हेतु 1.31 करोड़ धनराशि जारी करने की स्वीकृत प्रदान की गई। जिलाधिकारी ने संबधित एसडीएम को निर्देशित किया कि प्रभावित परिवार के पुनर्वास वाले स्थानों पर बिजली, पानी, कनेक्टिविटी सहित अन्य मूलभूत सुविधाएं भी सुनिश्चित की जाए।

विस्थापन एवं पुनर्वास हेतु जिन 48 परिवारों के लिए द्वितीय किस्त की धनराशि स्वीकृत की गई है, उसमें तहसील नंदानगर (घाट) के अंतर्गत कनोल गांव के 31 परिवार, तहसील कर्णप्रयाग के अंतर्गत ग्वाड गांव के 03 परिवार और तहसील थराली के अंतर्गत बैडगांव के 05, सूना गांव के कल्याडी तोक से 03 और बैनोली गांव के 0़6 परिवार शामिल है। इन सभी 48 परिवारों को पहली किस्त के रूप में 96 लाख की धनराशि पूर्व में आवंटित कर दी गई थी। जबकि तहसील थराली के अंतर्गत आपदा प्रभावित पैनगड गांव के 30 परिवारों को निजी नाप भूमि एवं 01 परिवार को राजस्व भूमि में विस्थापित किया जाना है। पैनगड गांव के 31 परिवारों के विस्थापन हेतु एक मुश्त 4.25 लाख प्रति परिवार की दर से एक करोड़ इक्कतीस लाख पिच्चहतर हजार की धनराशि जारी करने की स्वीकृति प्रदान की गई है। प्रभावित परिवारों के विस्थापन एवं पुनर्वास हेतु प्रति परिवार 4.25 लाख की धनराशि दी जाती है। जिसमें 4 लाख भवन निर्माण, 10 हजार विस्थापन भत्ता तथा 15 हजार गौशाला निर्माण के लिए दिया जाएगा।

जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी ने बताया कि तहसीलों से 79 परिवारों के विस्थापन हेतु प्रस्ताव मिले थे। प्रभावित परिवारों के विस्थापन हेतु शासन से 339.75 लाख की धनराशि मिली थी। जो प्रभावित परिवारों के पुनर्वास हेतु आवंटित कर दी गई है। बैठक में अपर जिलाधिकारी डॉ अभिषेक त्रिपाठी, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी एनके जोशी सहित संबधित तहसीलों से उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार उपस्थित थे।