युवाओं में नशे की प्रवृत्ति से बेहद चिंतित मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नेपाल व यूपी के बॉर्डर एरिया पर पैनी नजर रखते हुए, प्रदेश में मादक पदार्थों पर पूर्ण रोक लगाने के निर्देश वर्चुअल बैठक लेते हुए दिए। मुख्यमंत्री ने वर्चुअल माध्यम से अधिकारीयो व मौजूद जनप्रतिनिधियों को नशा मुक्ति की शपथ दिलाई।

मुख्यमंत्री श्री धामी ने कहा कि मादक पदार्थों को रोकना ,युवाओं को मादक प्रदार्थों के दुष्परिणामों के प्रति जागरूक करना व नशे से गिरफ्त में फंसे युवाओं से बाहर निकालना अति आवश्यक है। इसके लिए हम सभी को संजीदगी से सक्रिय होकर समन्वय बनाते हुए कार्य करने होंगे, तथा प्रदेश व अपने जनपद को नशा मुक्त बनाना होगा । युवाओं मे दवावो का नशीले पदार्थ के रूप में उपयोग बढ़ रहा है ,जो चिंतनीय है इसको रोकने के लिए सभी मेडिकल स्टोर में सीसीटीवी अनिवार्य रूप से लगाते हुए उनकी नियमित दवा बिक्री पर पैनी नजर रखते हुए छापेमारी भी करनी होगी। उन्होंने पुलिस को अपनी इंटेलिजेंस को और सक्रिय करते हुए मादक पदार्थों के तस्करों पर शिकंजा कसने के भी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा मुक्ति अभियान में अच्छा कार्य करने वालों को सम्मानित किया जाएगा । उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी अपने क्षेत्र व गांव में जाकर नशा मुक्ति शपथ दिलाने व नशे के दुष्परिणाम के प्रति जागरूक करने को कहा। उन्होंने विद्यालयों व उच्च शिक्षण संस्थानों, स्वास्थ्य, पुलिस विभाग को मिलकर कार्य करते हुए नशे के प्रति जागरूक करें वह बच्चों की काउंसलिंग करने को कहा। उन्होंने कहा कि जनपद नैनीताल व पौड़ी में शीघ्र नशा मुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र कार्य प्रगति पर हैं जिन्हें पूर्ण कर शीघ्र संचालित किए जाएंगे

वर्चुअल बैठक में जिलाधिकारी रीना जोशी, मुख्य विकास अधिकारी नंदन कुमार, संयुक्त मजिस्ट्रेट आशीष कुमार मिश्रा, मुख्य शिक्षा अधिकारी अशोक कुमार जुकारिया, आबकारी अधिकारी हरीश चंद्र , डीपीओ संजय गौरव, एसएसबी कमांडेंट आशीष कुमार, एसएसबी एसआई ए के मिश्रा,स्वस्थ , समाज कल्याण विभाग वजनप्रतिनिधि आदि मौजूद थे